कोरोना वायरस से कैसे बचे | कोरोना वायरस से बचने का सही तरीका - Trending Sector - trendingsector.com, trending sector, trending news, trending topic

Breaking

Sunday, 22 March 2020

कोरोना वायरस से कैसे बचे | कोरोना वायरस से बचने का सही तरीका

कोरोना वायरस से कैसे बचे | कोरोना वायरस से बचने का सही तरीका


'COVID-19' शब्द पूरे जीवित समुदाय के लिए इस सबसे दयनीय स्थिति में सबसे भयावह और डरावना शब्द बन गया है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि इस विनाशकारी वायरस की उत्पत्ति चीन से हुई है। मुख्य रूप से, यह रोग चमगादड़ में पाया गया था, और चमगादड़ से, इन सूक्ष्मजीवों को चीनी लोगों के अजीब खाने की आदतों के कारण मानव में स्थानांतरित कर दिया गया। क्षमा करें, मैं समझता हूं कि यह मजाक करने का समय नहीं है, लेकिन उन लोगों की ये हानिकारक आदतें पूरी दुनिया को सबसे बुरे तरीके से प्रभावित करने वाली हैं। इस घातक वायरस ने अभी पूरी दुनिया में हंगामा फैलाया है। इस महामारी ने कई लोगों की जान ले ली है और पूरे समुदाय में खलबली मचा दी है।

कोरोना वायरस से कैसे बचे | कोरोना वायरस से बचने का सही तरीका
कोरोना वायरस से कैसे बचे | कोरोना वायरस से बचने का सही तरीका


लेकिन वर्तमान स्थिति हमारे और साथ ही अन्य लोगों के मन में दहशत पैदा करने का समय नहीं है।

किसी ने सही बताया है कि "रोकथाम इलाज से बेहतर है 'और निश्चित रूप से, इस घातक वायरस को निवारक उपायों से हराया जा सकता है। आइए हम उन पर एक-एक करके चर्चा करें:

* भारतीय संस्कृति हमेशा से पूरी दुनिया के लिए एक सबक रही है, इसने हमेशा बड़े मुद्दों को ठीक करने के लिए कई छोटे और सरल कार्य प्रदान किए हैं। और इस महामारी को कुछ छोटे उपायों का पालन करके भी हराया जा सकता है। जैसे आपको इस कमजोर स्थिति में किसी के साथ हाथ मिलाना या गले नहीं लगाना चाहिए। 'नमस्ते' किसी को अभिवादन करने का सबसे अच्छा तरीका है, क्योंकि इसमें दूसरों के साथ कोई शारीरिक संपर्क शामिल नहीं है, जो भारतीय संस्कृति के महत्व का वर्णन करने के लिए सबसे अच्छा उदाहरण है। हमें किसी भी व्यक्ति के साथ किसी भी प्रकार के शारीरिक संपर्क से बचना चाहिए, हमें अपने परिवार के सदस्यों के साथ भी कुछ दिनों के लिए कुछ दूरी रखने की कोशिश करनी चाहिए।

* हम भारतीयों को उन पश्चिमी संस्कृतियों से बचना चाहिए, जैसे अपने हाथों को अच्छे से धोने के बजाय भोजन करने के बाद ऊतक का उपयोग करना। हमें भोजन लेने से पहले अपने हाथों को ध्यान से धोना चाहिए। उन हानिकारक सूक्ष्म जीवों को मारने के लिए सैनिटाइज़र और हैंडवाश का हमेशा इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

* हमें अपने चेहरे को छूने से बचना चाहिए, क्योंकि यह उस घातक वायरस को आपके हाथों से आपके चेहरे पर स्थानांतरित करता है। हमें हमेशा अपने घर से बाहर जाते समय मास्क पहनना चाहिए। छींकते या खांसते समय हमें अपने चेहरे को अपनी कोहनी से ढंकना चाहिए। हमें आपात स्थिति के लिए हमेशा सैनिटाइज़र को अपनी जेब में रखना चाहिए।

* बच्चों, इन दिनों विशेष देखभाल की आवश्यकता है। आपको उन्हें खेलने के लिए घर से बाहर नहीं भेजना चाहिए। वे कुछ दिनों के लिए इनडोर गेम खेल सकते हैं। उनके माता-पिता को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बच्चों को बोर महसूस नहीं करना चाहिए अन्यथा वे खेलने के लिए बाहर जाने की कोशिश करेंगे। उन्हें निवारक उपायों को जानना चाहिए, उस पर कार्रवाई करने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

* हमें इन दिनों यात्रा करने से बचना चाहिए। यहां तक ​​कि हमें बहुत जरूरी काम के बिना अपने घर से बाहर नहीं आना चाहिए। इन दिनों हमारे बीच किसी के पास भी उस वायरस की कुछ जीवित कोशिकाएँ हो सकती हैं, जो अभी हमें नुकसान नहीं पहुँचा रही हैं, लेकिन अगर वे हमारे संपर्क में आती हैं तो दूसरों को नुकसान पहुँचा सकती हैं। इसलिए हमें किसी भी भीड़-भाड़ वाली जगह पर नहीं घूमना चाहिए क्योंकि ये कीटाणु जल्दी फैल सकते हैं।

* जैसा कि हम जानते हैं कि बूढ़े लोग इस वायरस की चपेट में आते हैं। इसलिए उन्हें इन दिनों बहुत देखभाल की जरूरत है। उम्र बढ़ने की प्रक्रिया से हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। और इसलिए, वृद्ध लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली सबसे कमजोर होती है, जो उन्हें वहां घातक वायरस का पहला शिकार बनाती है। इसलिए, उन्हें किसी भी कीमत पर अपने घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। उन्हें कुछ दिनों के लिए किसी भी व्यक्ति से नहीं मिलना चाहिए। इस निराशा से लड़ने के लिए उन्हें बहुत मजबूत होना चाहिए, इसलिए उन्हें बेहतर आहार योजना का पालन करना चाहिए। यदि उनके पास किसी भी प्रकार के लक्षण हैं, तो तत्काल डॉक्टरों से परामर्श करना चाहिए।

* हमें नियमित समय पर, अधिक पानी पीना चाहिए। चूँकि कोरोनोवायरस हमारे वाइंडपिप पर हमला करता है, इसलिए पीने का पानी उन जीवों को आपके पेट में प्रवाहित कर देगा, क्योंकि यह पेट में मौजूद कई प्रकार के एंजाइमों के कारण नष्ट हो जाता है।

* हमें हमेशा साफ बर्तनों में खाना चाहिए। साफ पानी लेना चाहिए।


आपकी जीवनशैली में ये छोटे बदलाव निश्चित रूप से इन घातक वायरस से लड़ने में मदद करेंगे। बस हमारी भारतीय संस्कृति का पालन करें, जो कि शुद्ध विज्ञान है। कुछ लोग सोचते हैं, हमारी संस्कृति में मिथक हैं, लेकिन वे इसके पीछे के विज्ञान को नहीं समझते हैं। उन्हें इसे समझने की जरूरत है।

इसलिए स्मार्ट बनो, सुरक्षित रहो।
सुरक्षित रहें, सुरक्षित रहें

No comments:

Post a comment